मोदी ने किया Ujjain Mahakal Corridor का लोकार्पण, जानें ‘महाकाल लोक’ को

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 11 अक्टूबर को Ujjain Mahakal Corridor के First Phase का लोकार्पण किया। मध्यप्रदेश राज्य की राजधानी भोपाल से लगभग 200 किलोमीटर दूर स्थित 856 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले इस महाकालेश्वर मंदिर कॉरिडोर विकास परियोजना 900 मीटर से भी अधिक लम्बी है और इसे ‘महाकाल लोक’  नाम से भी पुकारा जा रहा है। यह भारत के सबसे बड़े कॉरिडोर में से एक है। उज्जैन का महाकाल मंदिर देश के उन 12 ‘ज्योतिर्लिंगों’ में से जिन पर साल भर भक्त आते हैं।

महाकाल कॉरिडोर क्या है (What is Ujjain Mahakal Corridor in Hindi)

उज्जैन के महाकाल महाराज मंदिर परिसर विस्तार योजना उज्जैन जिले में महाकालेश्वर मंदिर और उसके आसपास के क्षेत्र के विस्तार, सौंदर्यीकरण और भीड़भाड़ को कम करने की एक योजना है। महाकालेश्वर कॉरिडोर के पहले चरण, जिसके निर्माण में लगभग 350 करोड़ रुपये की लागत का अनुमान है, जिसका लोकार्पण मोदी जी ने किया। 

mahakal lok in hindi

उज्जैन में पहली कैबिनेट बैठक के बाद सीएम चौहान ने घोषणा की कि इस नए कॉरिडोर को महाकाल लोक कहा जाएगा। योजना के तहत लगभग 2.82 हेक्टेयर के महाकालेश्वर मंदिर परिसर को बढ़ाकर 47 हेक्टेयर किया जा रहा है, जिसे उज्जैन जिला प्रशासन द्वारा दो चरणों में विकसित किया जाएगा। परियोजना के पहले चरण में महाकाल मंदिर और रुद्रसागर झील के मैदान में सुधार शामिल है, जिसमें एक पुल, झील के किनारे, महाकालेश्वर वाटिका, धर्मशाला, अन्न क्षेत्र (फूड हॉल), एक उपदेश हॉल का निर्माण शामिल है। इस परियोजना से शहर में visitors की संख्या मौजूदा 1.50 करोड़ से बढ़कर लगभग तीन करोड़ होने की उम्मीद है।

उज्जैन कॉरिडोर प्रथम फेज के मुख्य आकर्षण (Major Attraction of Ujjain Mahakal Corridor)

ujjain mahakal corridor news in hindi

Ujjain Mahakal Corridor in Hindi: पहले चरण के विकास में दो प्रवेश द्वार नंदी द्वार और पिनाकी द्वार के साथ एक विज़िटर्स प्लाजा बनाई गयी है। इस विज़िटर्स प्लाजा में एक साथ 20,000 तीर्थयात्री दर्शन करने जा सकते हैं। ये दोनों थोड़ी-थोड़ी दूरी पर बनाये गए हैं और कॉरिडोर के शुरुआती बिंदु के पास बनाए गए हैं, जो प्राचीन मंदिर के प्रवेश द्वार तक जाने के मार्ग दिखाते हैं। कॉरिडोर की परियोजना में एक विशाल मंडप भी शामिल है – त्रिवेणी मंडपम, केंद्र में भगवान शिव की मूर्ति के साथ एक विशाल फव्वारा, और रुद्रसागर झील से सटे अन्य फव्वारे लगाए गए हैं। एक 900 मीटर पैदल यात्री कॉरिडोर का निर्माण किया गया है, जो प्लाजा को महाकाल मंदिर से जोड़ता है, जिसमें शिव विवाह, त्रिपुरासुर वध, शिव पुराण और शिव तांडव स्वरूप जैसे भगवान शिव से संबंधित कहानियों को दर्शाती 108 भित्ति चित्र और 93 मूर्तियां हैं।

nandi dwar

कॉरिडोर में, बीच में 108 खंभों की एक पंक्ति द्वारा 24 मीटर की दूरी पर लगाया गया है, जिसके ऊपर लैम्पपोस्ट भी हैं। लेफ्ट साइड का आधा पार्ट 12 मीटर चौड़ा पैदल चलने वालों के लिए है, और 53 भित्ति चित्रों वाली दीवार से सटे अगला 12-मीटर भाग ई-वाहनों (11-सीटर गोल्फ कार्ट), एम्बुलेंस और फायर ब्रिगेड वाहनों के चलने के लिए है।

इस कॉरिडोर को बनाने में राजस्थान में बंसी पहाड़पुर क्षेत्र से प्राप्त बलुआ पत्थरों का उपयोग किया गया है जो कॉरिडोर को और भी अट्रैक्टिव बनाते हैं। परियोजना की शुरुआत से ही मुख्य रूप से राजस्थान, गुजरात और उड़ीसा के कलाकारों और शिल्पकारों ने कच्चे पत्थरों को तराशने और अलंकृत करने का काम किया है।

ujjain mahakal corridor in hindi

उज्जैन महाकाल कॉरिडोर के दूसरे फेज में क्या होगा (Second Phase of Ujjain Mahakal Corridor) 

Ujjain Corridor in Hindi 2nd Phase: दूसरे चरण में मंदिर के पूर्वी और उत्तरी भाग का विस्तार किया जाएगा, जिस पर 310.22 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है। महाराजवाड़ा, महल गेट, हरि फाटक ब्रिज, रामघाट अग्रभाग और बेगम बाग रोड सहित उज्जैन शहर के विभिन्न हिस्सों का भी जीर्णोद्धार किया जा रहा है। महाकाल मंदिर के परिसर को महाराजवाड़ा में संरचनाओं से जोड़ा जाएगा, और एक ऐतिहासिक धर्मशाला और कुंभ संग्रहालय भी विकसित किया जाएगा। ‘महाकाल लोक’ के विकास में एक मध्य मार्ग क्षेत्र, एक पार्क, कारों और बसों के लिए एक बहुमंजिला पार्किंग स्थल, फूलवाला और अन्य दुकानें, सौर प्रकाश व्यवस्था, तीर्थयात्रियों के लिए एक सुविधा केंद्र, पानी की पाइपलाइन और सीवर लाइन सहित अन्य कार्य शामिल हैं।

ujjain mahakal news

दूसरे चरण को सिटी इनवेस्टमेंट्स टू इनोवेट इंटीग्रेट एंड सस्टेनेबल (CITIIS) प्रोग्राम के तहत एजेंस फ़्रैन्काइज़ डी डेवलपमेंट (AFD) से फंडिंग के साथ विकसित किया जा रहा है।

उज्जैन महाकाल मंदिर

  • महाकाल मंदिर का उल्लेख कई प्राचीन भारतीय काव्य ग्रंथों में मिलता है। चौथी शताब्दी में रचित मेघदूतम (पूर्व मेघ) के प्रारंभिक भाग में कालिदास महाकाल मंदिर का विवरण देते हैं।
  • यह एक पत्थर की नींव के साथ लकड़ी के खंभों पर छत के साथ वर्णित है। गुप्त काल से पहले मंदिरों पर कोई शिखर नहीं होता था।
  • मध्यकाल में इस्लामी शासक यहां पूजा करने के लिए पुजारियों को दान देते थे।
  • 13 वीं शताब्दी में, उज्जैन पर अपने छापे के दौरान तुर्क शासक शम्स-उद-दीन इल्तुतमिश द्वारा मंदिर परिसर को नष्ट कर दिया गया था।
  • वर्तमान पांच मंजिला संरचना का निर्माण मराठा सेनापति रानोजी शिंदे ने 1734 में मंदिर वास्तुकला की भूमिजा, चालुक्य और मराठा शैलियों में किया था।

दक्षिण मुखी ज्योतिर्लिंग

  • उज्जैन में महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग शिव के सबसे पवित्र निवास माने जाने वाले 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। यह मंदिर भारत में 18 महा शक्तिपीठों में से एक के रूप में प्रतिष्ठित है।
  • यह दक्षिण की ओर मुख वाला एकमात्र ज्योतिर्लिंग है, जबकि अन्य सभी का मुख पूर्व की ओर है। ऐसा इसलिए है क्योंकि मृत्यु की दिशा दक्षिण मानी जाती है।
  • दरअसल, अकाल मृत्यु से बचने के लिए लोग महाकालेश्वर की पूजा करते हैं।
  • महाकाल के अलावा, गुजरात में सोमनाथ और नागेश्वर, आंध्र प्रदेश में मल्लिकार्जुन, मध्य प्रदेश में ओंकारेश्वर, उत्तराखंड में केदारनाथ, महाराष्ट्र में भीमाशंकर, त्र्यंबकेश्वर और ग्रिशनेश्वर, वाराणसी में विश्वनाथ, झारखंड में बैद्यनाथ और तमिलनाडु में रामेश्वरम 11 ज्योतिर्लिंग शामिल हैं।

Mr. Mukesh Swarnakar is an Engineer. He has a great interest in writing content for Technology, Education, Automobiles, Current News Etc. He has more than 6 years of experience in blog writing.


1 thought on “मोदी ने किया Ujjain Mahakal Corridor का लोकार्पण, जानें ‘महाकाल लोक’ को”

Leave a Comment