address book, notebook, notes

ग़ज़ल:- जो जरूरी नहीं वो भी कर देखिए

जो जरूरी नहीं वो भी कर देखिएबस सियासी नशे में उतर देखिए नफ़रतों में जले घर कई रंग भरेघुल गया है नसों में ज़हर देखिए हर नज़र शक़ भरी हर डगर डर भरीटूटने में कहाँ है कसर देखिए आदमी से घिरा आदमी देखिएजी रहे सहरा का ये बसर देखिए दिल्ली दिल से कहे बिल नहीं …

ग़ज़ल:- जो जरूरी नहीं वो भी कर देखिए Read More »