notebook, is empty, pen

कोरोना और मंथन
(आकाश, नदी और मानव का)

मेरा रंग आसमानी हैमैं ये भूला था बरसों सेगए इन कुछ दिनों में परन जाने क्या हुआ ऐसामेरे दामन की सब कालिख़मिली थी जो मुझे जबरनमिटी कुछ इस सलीखे सेनदी को आईना करकेनिहारा मैंने जब खुद कोमुझे ऐसा लगा जैसेनया एक जन्म पाया होकि जैसे श्राप-मुक्ति सेपुनः देवत्व पाया हो मैं जीवनदायिनी सबकीमुझे माता पुकारें …

कोरोना और मंथन
(आकाश, नदी और मानव का)
Read More »