सूर्य मंदिर उनाव बालाजी में पहली बार हुई गंगा आरती – Unao Balaji Ganga Aarti 

Unao Balaji Ganga Aarti– 25 अप्रैल 2023 आज का दिन मध्य प्रदेश के इतिहास में दर्ज रहेगा, जी हाँ मध्यप्रदेश के दतिया जिले में उनाव बालाजी नामक ग्राम में वर्षों पुराना ‘सूर्य भगवान’ का मंदिर है। ये लाखों लोगों की आस्था का प्रतीक है। इस वर्ष 2023 से एक नयी प्रथा की शुरुआत यहाँ से की गयी है। काशी (बनारस) जैसे स्थान पर होने वाली पवित्र गंगा आरती को यहाँ की ‘पुष्पावती नदी’ पर भी की जाने लगी है। 

unao balaji aarti

आज का दिन उनाव वासियों को हमेशा याद रहेगा क्योंकि सूर्य मंदिर के सामने बहती गंगा (पुष्पावती) नदी जिसकी पहली बार भव्य आरती हुई। आरती के लिए हज़ारों की संख्या में श्रद्धालु आये और सभी ने इस भव्य आरती का आनंद लिया। आइये जानते हैं इस Unao balaji Ganga Aarti के बारे में विस्तार से।

unao balaji nadi aarti

बनारस से आये पुरोहित 

इस आरती की सबसे खास बात थी की इसके लिए काशी बनारस के पंडित आये हुए थे जिनके ही हाथों ये शुभ कार्य संपन्न हुआ। इस आरती में 7 तरह से आरती की गयी (Unao Balaji Nadi Aarti)

सबसे पहले तो गंगा (पुष्पावती ) नदी का पूजन किया गया इसके बाद ३ पंडित जिनके द्वारा ये आरती प्रारम्भ हुयी।

ganga aarti unao balaji

1 अगरबत्ती द्वारा 

2 पुष्प आरती – जिसमे पुष्प के द्वारा आरती की गयी  

3  धूप  आरती – जिसमे धुप द्वारा आरती हुई 

4  दीप आरती – जिसमे दीपो द्वारा आरती हुई 

unao balaji ganga aarti 2023

5  कपूर आरती -जिसमे कपूर द्वारा आरती हुई 

6 मोर पंख आरती – जिसमे मोर पंख से आरती हुई

7 शयन आरती – जिसमे शयन पंखे से आरती की जाती है

आरती की शुरुआत और अंत में शंख (पावन ध्वनि) की गर्जना हुई |

आरती देखने के लिए इस वीडियो को देखें

हजारों की संख्या में पहुंचे श्रद्धालु

surya mandir aarti unao balaji

उनाव बालाजी में इतिहास में पहली बार इस तरह का आयोजन हुआ जिसके लिए हजारों श्रद्धालु कई घंटो तक इंतज़ार करते रहे। इस लम्बे इंतज़ार का फल उन्हें मिला पुष्पावती नदी की इस भव्य आरती Unao Balaji Ganga Aarti को देखकर। पुलिस बल भी इस समय मौजूद रहा।

बालाजी धाम से विख्यात है ये जगह 

उनाव बालाजी दतिया व झाँसी से 17 किमी की दूरी पर है। बालाजी मंदिर एक बहुत पुराना मंदिर है और कहा जाता है कि यह पूर्व-ऐतिहासिक काल से मौजूद है। बालाजी सूर्य मंदिर में दूर-दूर से लोग तीर्थयात्रा के लिए आते हैं। मंदिर के ठीक सामने पहूज (पुष्पावती) नदी है इसमें पवित्र जल है और यह लोकप्रिय धारणा है कि इस पानी में स्नान करने वाले कोढ़ी (त्वचा रोग से पीड़ित व्यक्ति) अपने भयानक रोग से मुक्त हो जाते हैं। इसे बालाजी-धाम के नाम से भी जाना जाता है। उनाव केवल सड़क मार्ग से जुड़ा हुआ है।

unao balaji aarti

बिना Card के ATM से निकाल पाएंगे पैसे UPI की मदद से, जानें Step By Step पूरी प्रोसेस

Share Now:

मेरा नाम मुकेश स्वर्णकार है और मैं एक इंजीनियर हूँ। मुझे टेक्नोलॉजी, एजुकेशन, लेटेस्ट मोबाइल और गैजेट्स, ऑनलाइन पैसे कमाने के टिप्स, ऑटोमोबाइल, ट्रेंडिंग इवेंट्स आदि के लिए कंटेंट लिखने में बहुत इंटरेस्ट है। मुझे ब्लॉग लिखते हुए लगभग 6 वर्ष हो गए हैं।


Leave a Comment

Vivo X100 पहला ऐसा मोबाइल जिसमें मिलेंगे ये खास फीचर्स NEXON EV का नया वैरिएंट लांच, दमदार और ज्यादा रेंज लो आ गई तमन्ना भाटिया की ये न्यू वेब सीरीज Tata Nexon के नए अवतार को देख लोग हुए दीवाने इस राखी दें अपनी प्यारी बहना को ये उपहार