तुम्हारे नाम के साथ एक ज़िन्दगी

bed, bloom, flower

ख़्वाब देखा करो ख्वाहिशें करते चलो
और हौले-हौले ज़िन्दगी में ढलते रहो
उम्मीद घना एक कोहरा है
ख़ुशनुमा मगर एक कोहरा है
धुँधला एक लंबा सफ़र करते रहो
गिरी शाख की जगह से फिर पीक आएगा क्या?
पता नहीं, लेकिन पुरानी शाख गिराकर
एक नया अरमान लिए चलते रहो
सारी इच्छाएँ चाहतें नदिया सी हैं
कौन कहाँ गुम हो जाए ?
किसमें कौन-सी मिल जाए ?
पता नहीं, लेकिन
सब यही सोचकर बहती हैं कि
अंत समंदर है
तुम भी गर बहना चाहो तो सोचो
सपने देखो ख्वाहिशें करो
उम्मीद की लाठी टेके रहो
बेख़ौफ़ धुंध में चलते रहो
जान के एक अनजान ज़िन्दगी जी जाओ
फिर लोग यहाँ के देखेंगे
वक़्त की दीवार पर चस्पा
तुम्हारे नाम के साथ एक ज़िन्दगी…!!!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *