शुक्रिया बेस्ट ऑफ लक

daisy, flower, hand

मेरी हारों से मत घबरा
मत सोच इतना
मेरे बेस्ट ऑफ लक
तुझमें कोई कमी नहीं थी
कि मैं अव्वल न आ सका
मुक़द्दर कोई झील नहीं
गहरा एक दरया है
इस दरया में डूबता-उतरता मैं
जो अब भी ज़िन्दा हूँ
तो ये तेरा ही करिश्मा है
मेरे बेस्ट ऑफ लक

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *