दिल धड़क में गा रहा वो इक सदा तू सुन

sunset, spring, melting-2169751.jpg

दिल धड़क में गा रहा वो इक सदा तू सुन
पास आ मेरे ज़रा तू दिल लगा के सुन

अजनबी के नाम से है ज़िक्र तेरी बात का
हया से झेंप जाएगी नज़र झुका के सुन

ज़िस्म की महक बता रही है इश्क़ का पता
सब बताती साँस को ध्यान लगा के सुन

बात सदियों से वही जो राँझा-मंजनूँ ने कही
तू हीर बनके कान दे तू लैला होके सुन

इश्क़ की ख़ामोशियों से मीठी कोई बात क्या
नज़र से सीने में उतर ख़्याल जाके सुन

मेरे दिल में बेलागपन मग़र चेहरे पर झिझक
माथे की शिकन को तू सुकून बनके सुन

ये वस्ल में किफ़ायतें दिल को खल रही
तू दूरियों के तंज़ इंतज़ार बनके सुन

तुमसे दोस्त की नज़र से मैं हाल-ए-दिल कहूँ
मैं रोयाँ-रोयाँ खोल दूँ तू यार बनके सुन

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: copy क्यों कर रहे हो?
Scroll to Top